आंतरिक परिवर्तन
योग इंसान
को रूपांतरित करके उसे मुक्त करता है ताकि वह अपने परम स्वभाव को उपलब्ध हो सके
Array


एक कीडे के बारे में एक बहुत सुंदर कहानी है जिसने अपना अधिकतम जीवन इसी सोच में बिता दिया कि उसका जीवन केवल खाने और सोने के लिए है तथा बाकी कीडे जो करते हैं वही काम करने के लिए है। फिर भी वह अपने जीवन से नाखुश था। किसी तरह से उसे यह पता चला कि उसके जीवन का एक और आयाम भी है, जिससे वह अभी तक अनजान है।

फिर किसी दिन एक अजीब लालसा से प्रेरित होकर, उसने निश्चय किया कि अब वह एकदम शांत और स्थिर रहेगा। उसने एक पेड की टहनी से लटक कर अपने चारों ओर एक सुरक्षा कवच बुन लिया। कवच के अंदर इस तरह स्थिर बैठने से उसे बेचैनी और असुविधा भी हुई, परंतु वह अपने निश्चय पर अडिग रहा, और अपना धैर्य नहीं छोडा। उसे अपने इस धैर्य का बहुत खूबसूरत फल मिला, क्योंकि जब वह कवच टूट कर अलग हुआ, तब उसके अंदर पहले वाला साधारण कीडा नहीं था, बल्कि एक सुंदर, दमकती हुई तितली बाहर निकली जिसने आकाश को चकित कर दिया। उसने ऊँची उडान भरी क्योंकि अब उसका अस्तित्व कीडे की तरह सीमित नहीं था, बल्कि उन्मुक्त और असीमित था। मानो इस कीडे का एक नया जन्म हुआ हो, अब वह किसी सुंदर जादुई चीज में रूपांतरित हो गया था।

एक बार रूपांतरित होने के बाद, इस तितली का फिर से कीडे में बदलना नामुमकिन था। कवच के अंदर, वह कीडा अपने आंतरिक प्राणी के साथ एक हो गया और उस मिलन में वह अपने परम स्वभाव को उपलब्ध हो गया। कवच के अंदर जो भी घटित हुआ उस प्रक्रिया को योग कहा जा सकता है। योग मुक्त होने का एक मार्ग है।

योग मनुष्य को रूपांतरित करके मुक्त करता है, इससे वह अपने परम स्वभाव को उपलब्ध हो जाता है। पशुओं से भिन्न, मनुष्य का जीवन बस किसी तरह से जीवन-निर्वाह करने के लिए नहीं है। उसका जीवन निरंतर रूपांतरण के लिए है। एक मनुष्य के रूप में विकसित होने का अर्थ है: अपनी सीमाओं के प्रति जागरूक होना तथा तीव्र उत्कंठा के साथ अपने परम स्वभाव - जिसके लिए हम सब सक्षम हैं - को पाने की दिशा में निरंतर प्रयत्न करना।

योग क्या है?
 
  • Digg
  • del.icio.us
  • Facebook
  • TwitThis
  • StumbleUpon
  • Technorati
  • Google
  • YahooMyWeb
 
ISHA FOUNDATION
Isha Foundation - A Non-profit Organization © Copyright 1997 - 2017. Isha Foundation. All rights reserved
Site MapFeedbackContact UsInternational Yoga Day Copyright and Privacy Policy Terms and Conditions